पर्दे के पीछे छुपा हुआ एक पर्दा हूँ| Sad Shayri

Sad Moment For A Legendry Girl😢
Sad Gazal


पर्दे के पीछे छुपा हुआ एक और पर्दा हूँ

इस्तेमाल करके छोड़ा हुआ एक लम्हा हूँ

हुस्न नाम है मेरा, आज बस मैं एक मज़ाक़ भर हूँ

आज हर कोई मुझे हवस की निगाह से देखता है। आज होकर भी मेरा कोई वजूद नही है। 

आज मैं एक आशिक़ से ज़्यादा बदनाम हूँ 

वक़्त के सौदागर ने मुझे बार और शराबखानों में ला छोड़ा है। 

मैं जिसे मिलती हूँ उसकी जिंदगी को तबाह कर डालती हूँ। 

Comments

Popular posts from this blog

Daring Greatly | How the Courage to Be Vulnerable Transforms the Way We Live